Assets और Liabilities क्या है?

यदि आप Accounting में नए है और Finacially fridom पाने की कोशिश में है तो आपको Assets और liabilities क्या है? (Assets and liabilities in Hindi) और इन दोनों में क्या फरक है? यह प्रश्न आपके मन में जरूर आया होगा.

शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करने के लिए हमको कंपनी का स्टडी करना होता है. जिसमे कंपनी का बैलेंस शीट चेक करना एक महत्व पूर्ण स्टेप माना जाता है. बैलेंस शीट से हमको कंपनी की Finanacial Health की जानकारी मिलती है. जिससे हम उस कंपनी के शेयर खरीदने है या नहीं इसका अनुमान लगा सकते है.

यदि आपको बैलेंस शीट पढना और समजना है तो आपको एसेट्स और लाइबिलिटी इन दोनों को अच्छेसे समजना होगा. इस पोस्ट में हमने एसेट्स और लाइबिलिटी क्या है और इनके प्रकार कोनसे है इसकी पूरी जानकारी दी है.

तो सबसे पहिले जानते है इन दोनों का हिंदी में अर्थ क्या होता है..

Assets and liabilities meaning in Hindi

Assets का हिंदी में अर्थ होता है संपत्ति और liabilities का अर्थ होता है ऋण.

इन दोनों को हम विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे..

Assets और liabilities क्या है? Assets and liabilities in Hindi

Assets kya hai? (Assets in Hindi)

Assets यानि की सम्पति यह हमने पहिले ही देखा. Assets आपके बिज़नस के लिए वो हो सकते है जो की भविष्य में आपको पैसे कमा कर दे सकते है / Income generate कर के दे सकते है.

आसन शब्दों में कहे तो व्यापर / बिज़नस में लगी हर एक चीज़ जो की आपको फ्यूचर में पैसे कमाने का जरिया बन सकती है, या पैसे कमा के देने में हेल्प करेंगी वो सभी चीजे assets होगी. एक उधाहरण से भी देखे तो यदि कोही मशीन जो आपको बिज़नस में प्रोडक्ट्स को बनाने में हेल्प करेंगी मतलब वो पैसे कमा कर देने में हेल्प करेंगी तो वो मशीन कंपनी के लिए asset होगी.

Assets के उधाहरण देखे तो आपकी गाड़ी, कंपनी, मशीन, इन्वेस्टमेंट, कैश, स्टॉक्स अधि.

अब देखते है सम्पति के प्रकार कोनसे है…

Types of Assets in Hindi:

अकाउंट्स में Assets का वर्गीकरण को प्रमुख तीन केटेगरी में करते है वो है..

  1. Convertibility
  2. Physical Existence
  3. Usage

A) Convertiblity:

इसका मतलभ आपके पास जो assets है वो कितना जल्दी आप उसे कैश में रूपान्तरण (Convert) कर सकते है. इसके आधार पर assets के दो प्रकार होते है.

  1. Current Assets: यानि वो assets होते है जो आपको शोर्ट टाइम (१ साल से कम) में आप उसे कैश में convert कर सकते है. उदा. कैश और डिपाजिट, शोर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट, मैन्युफैक्चरिंग के लिए लगने वाला सामान
  2. Non- Current Assets: यानि वो assets होते है जिनको आप लॉन्ग टाइम (१ साल से जादा) में कैश में convert कर सकते है. उदा. कंपनी की जनीन और बिल्डिंग, फर्नीचर, लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट

B) Physical Existence:

इसमें assets को भौतिक अस्तित्व के आधार पर अलग किया है.

  1. Tangible: जो भी assets जिन्हें आप छु सकते है उन्हें Tangible assets कहते है.
  2. Intangible: जो assets जिन्हें आप छु नहीं सकते है उन्हें Intangible assets कहते है. उदा. पेटेंट्स, ट्रेडमार्क, कॉपीराइट, सॉफ्टवेर.

C) Usage:

इसमें assets को usage के आधार पर दो प्रकार में अलग किया है.

  1. Operating Assets: यानि की वो assets होते है जो कंपनी के दिन-प्रतिदिन के संचालन (Day to day operation) यानि प्रोडक्शन या और कोही काम में लगने वाली assets.
  2. Non Operating Assets: यानि की जिनका डेली के ऑपरेशन में इस्तमाल नहीं होता है लेकिन फिर भी वो लॉन्ग टर्म में काम आते है.

Liabilities kya jai? ( Liabilities in Hindi)

Liabilities का अर्थ है कर्जा / ऋण. जो भी चीज हो जिसके बदले में हमे फ्यूचर में उसके लिए कुछ पैसे या और कुछ किसीको देना पड़ता वो चीज़ हमारे लिए Liabilities है. इसका मतलब की बिज़नस / व्यापर के लिए जो भी कर्जा लेते है वो कर्जा उनके लिए Liabilities है क्यों की वो उनको कभी न कभी देना है, साथ ही उसपर ब्याज भी उनको देना होता है.

Liabilities Example: यदि बिज़नस ने बैंक से लोन लिया है तो वो कभी न कभी चुकाना होता है मतलभ बैंक लोन बिज़नस के लिए लायबिलिटी होती है.

Types of Liabilities in Hindi:

  1. Current Liability: Current Liability को short term liability भी कहा जाता है. जो की एक साल से कम समय के लिए होती है. जिन्हें हमें एक साल के अन्धर ही पे करना होता है. उदा. accounts payable (जो कंपनी के सप्लायर है, उनका पैसा देना होगा वो)
  2. Non-Current Liability: Non-Current Liability को long term liability भी कहा जाता है. जो की एक साल से जादा समय के लिए होती है. उदा. long term loans, Debentures, bond payable

निष्कर्ष (Conclusion):

दोस्तों उम्मीद करता हु आपने assets और liabilities क्या है? (Assets and liabilities in Hindi) और इन दोनों में क्या फरक है यह सब आपने इस पोस्ट में समजा होगा.

यदि आपके इस पोस्ट के प्रति कुछ सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे और ये पोस्ट अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे.

ये भी पढ़े:
Types of investment: निवेश क्या है? और कहा करे?
Passive Income Ideas List 2021: पैसिव इनकम क्या है कैसे करे?
Market Capitalization: मार्किट कैप क्या है? पूरी जानकारी

References:
https://www.investopedia.com/terms/l/liability.asp
https://en.wikipedia.org/wiki/Asset

Share

Leave a Comment