Saving vs Current Account सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है?

आज के ज़माने में हर कोही बैंक से जुडा होता है. सबके पास कोनसा तो बैंक अकाउंट तो होता ही होता है. लेकिन (Saving vs Current Account) सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है? यह बहुत से लोगो को मालूम नहीं होता है.

हर कोही व्यक्ति जिसके पास Bank Account है, उनको बचत खाता यानि Saving Account क्या है? चालू खाता यानि Current Account क्या है? इन दोन्हो में फरक क्या है? (what is Difference between current Account and Saving Account information in Hindi) यह जानना बहुत जरूरी है. यदि आपके मन में ये सभी प्रश्न है तो आपको यह पोस्ट जरूर पढना चाहिए.

तो सबसे पहिले देखते है सेविंग खाता क्या है?

बचत खाता / सेविंग अकाउंट (Saving Account) क्या है?

saving account जिसे हिंदी में बचत खाता भी बोला जाता है. यह एक जमा खाता होता है. जिसे आप सरकारी या प्राइवेट बैंक में खोल सकते है. जिसका इस्तमाल लोग अपने बचे हुए पैसे को सुरक्षित रखने हेतु जमा करते है. और आवश्यकता अनुसार बैंक से मांग भी सकते है.

भारत में जादा तो सामान्य लोग यही खाता खुलवाते है. बैंक इस प्रकार के खाते में रखे जाने वाली राशी पर ४ से ५ % ब्याज भी देती है.

SBI Net बैंकिंग के लिए अप्लाई कैसे करे?

चालू खाता / करंट अकाउंट (Current Account) क्या है?

Current Account जिसे हिंदी में चालू खाता भी बोला जाता है. इस प्रकार का बैंक अकाउंट कारोबारी, बिज़नस, को- ऑपरेटिव सोसाइटी, संस्था, कंपनी के लिए ही होता है. जिनकी रोजाना पैसे की लेन देन बड़े
पयमाने पर होती है. इसलिए करंट अकाउंट कारोबार करने वाले लोगो की रोजमर्रा के बिज़नस ट्रांजेक्‍शन करने की सुविधा देता है.

अब देखते है,

सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है? (Saving vs Current Account)

जब भी कोही भी व्यक्ति Bank Account open करवाने जाते है? तब यह सवाल हमेशा उसके मन में आता ही आता है की Saving vs Current Account क्या होता है? इन दोनों में क्या अंतर है यह मैंने बहुत ही आसान भाषा में समजया है…

Eligibility criteria:

हमने पहले ही देखा की करंट अकाउंट और सेविंग अकाउंट कोण open कर सकते है. saving account कोही भी open कर सकते है. यह अकाउंट अपने पर्सनल यूज़ के लिए होता होता है. जिसमे हम अपनी बचत की हुयी राशी को जमा करते है.

वही current Account कोही भी open नहीं कर सकता है. जो लोग बिज़नस करते है वही लोग अपने बिज़नस ट्रांजेक्‍शन के लिए यह अकाउंट open करते है.

किसके नाम होगा:

सेविंग अकाउंट हम अपने खुदके नाम पर open कर सकते है. एक बचत खाते में हम एक से जादा लोगों के नाम ऐड कर सकते है. यानि की हम उनका Joint Account open करा सकते है.

वही करंट अकाउंट हम बिज़नस के नाम ही open कर सकते है. मान लीजिये आप कोही दूकान चला रहे है उस दुकान के नाम पर ही आपको अपना करेंट अकाउंट open करना होता है, और जो दूकान का मालिक होता है, वही उस अकाउंट में authorised signatory के नाम पर ऐड होता है.

authorised signatory का मतलब होता है, वो व्यक्ति जिसके signature से अकाउंट से जुड़े सभी चेक क्लियर होते है, पैसे विथड्रान होते है. करंट अकाउंट में एक से जादा authorised signatory को भी ऐड किया जा सकता है. यानि की चालू खाता भी जॉइंट अकाउंट की तरह ही open किया जा सकता है.

Transaction Limit:

saving account में एक लिमिट में ही ट्रांजेक्‍शन कर सकते है. आप महीने में सिर्फ ५ बार ही ट्रांजेक्‍शन कर सकते है. यदि महीने में आपके ५ बार से जादा ट्रांजेक्‍शन होते है, तो आपको बैंक को कुछ चार्ज देना पढ़ सकता है.

उसी तरह आप ATM कैश विथड्रा करते है तो अपने बैंक से ५ बार और दुसरे बैंक ३ बार कैश विथड्रा कर सकते है. यदि आप इस लिमिट से जादा बार कैश विथड्रा करते है तो इसके भी चार्जेज देने पढ़ सकते है.

बचत खाते का उद्देश्य पैसे को सेविंग करना होता है. इस कारन इस पर ऐसे लिमिट होते है.

लेकिन current Account में ऐसे ट्रांजेक्‍शन को लेकर कोही भी लिमिट नहीं होता है. आप इसमें अनलिमिटेड ट्रांजेक्‍शन कर सकते है. आप कितने भी बार पैसे जमा कर सकते है और कितने भी बार पैसे निकल सकते है. उसी तरह करंट खाते के लिए ATM के लिए भी ट्रांजेक्‍शन को लिमिट नहीं है.

Interest Rate:

saving account में आपने जमा की हुयी राशी पर कुछ निच्छित ब्याज (Interest) मिलता है. जो की ४ से ६ % तक हो सकता है. हर एक बैंक का Interest rate अलग अलग होता है.

लेकिन वही बात करे current a/c. के बारे करे तो आपको इस प्रकार के खाते पर कोही भी ब्याज (Interest) नहीं मिलता है.

Overdraft (OD) Facility:

saving account में आपको कोही भी Overdraft Facility नहीं मिलती है. मतलभ आपके अकाउंट में जितने पैसे जमा है उतने ही पैसे आप विथड्रान कर सकते. उससे जादा पैसे आप निकाल नहीं सकते है.

लेकिन current Account में आपको Overdraft Facility मिलती है, जिस कारन आप अकाउंट से जमा राशी से जादा राशी को निकाल सकते है. इसका मतलभ आपके जमा राशी से जादा जितना पैसा आप निकाल रहे वह पैसा बैंक आपको लोन के रूप में देता है.

बैंक बिज़नस को कितना OD देता है यह लिमिट उस बिज़नस के अकाउंट के टर्न ओवर, बैंक ट्रांजेक्‍शन, प्रॉफिटीबिलिटी पर निर्भर होता है.

Minimum Balance:

saving account में आपको कुछ Minimum Balance Maintain करके रखना होता है. यह ५०० रूपये से लेके ३००० रुपए तक हो सकता है. यह हर एक बैंक का डिफरेंट हो सकता है. यदि आप अपने saving account में मंथली Minimum Balance Maintain नहीं कर पाते है तो आपको कुछ पेनल्टी चार्जेज बैंक को देने होते है.

वही current Account में भी आपको Minimum Balance Maintain करना होता है. चालू खाते (current a/c) भी कही प्रकार के होते है इस कारण यह लिमिट उसके हिसाब से अलग अलग हो सकती है.

निष्कर्ष (Conclusion):

इस तरह हमने इस पोस्ट जाना की सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है? (Saving vs Current Account) यदि आपके मन इस टॉपिक से जुड़े कूछ सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर पूछे. और यह जानकरी आपके दोस्तों और रिश्तेदारो से जरूर शेयर करे.

ये भी पढ़े:
GST क्या है? जानिए GST के बारे में सब कुछ
SBI Net banking Registration कैसे करे?
PF की पूरी जानकारी, Online Pf balance check कैसे करे?

FAQ

Q1. सेविंग खाता को हिंदी में क्या कहते हैं?

सेविंग खाता (Saving Account) को हिंदी में बचत खाता कहते है.

Q2. सेविंग अकाउंट करंट अकाउंट में क्या अंतर है?

सेविंग अकाउंट अपने पर्सनल यूज़ के लिए होता है, जिसे अपने बचे हुयी राशी को सुरक्षित रूप से बैंक में रखने हेतु खोलते है और करंट अकाउंट बिज़नस के बैंक ट्रांजेक्‍शन को संभालने के लिए होता है.

Q3. सेविंग अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

सेविंग अकाउंट के प्रकार :
Regular Savings  a/c.
Women’s Savings  a/c.
Senior Citizen’s  a/c.
Kids Savings  a/c.
Family Savings  a/c.
Student Savings  a/c.
salary Savings  a/c.
zero Balance Savings  a/c.

Q4. एक आदमी कितने बैंक अकाउंट रख सकता है?

एक आदमी अपने आवश्यकता अनुसार जितने चाहे उतने बैंक अकाउंट को खोल सकता है. इसके लिए कोही लिमिटे नही होता है. इनकम टैक्स में इसके लिए ऐसा कोही नियम नहीं होता है.

Q5. सेविंग अकाउंट को हिंदी में क्या बोलते हैं?

सेविंग अकाउंट को हिंदी में बचत खाता कहते है. बैंक इस प्रकार के खाते के जरिये आम आदमी को उनकी बचत की हुयी राशी को जमा करने की सुविधा प्रधान करती है.

सन्दर्भ (reference):
https://www.investopedia.com/terms/c/current-account-savings-account.asp
https://en.wikipedia.org/wiki/Savings_account

Share

2 thoughts on “Saving vs Current Account सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है?”

Leave a Comment