Bitcoin Kya Hai? बिटकॉइन से कैसे कमाए? बिटकॉइन की पूरी जानकरी

Bitcoin kya hai in Hindi? इससे पैसे कैसे कमाए? बिटकॉइन माइनिंग क्या होती है? बिटकॉइन कैसे ख़रीदे? बिटकॉइन से ट्रेडिंग करने के क्या फायदे और नुकसान होते है? (Bitcoin Mining, Price, Blockchain Technology kya hai)

हेलो दोस्तों, आज के टॉपिक में हम बिटकॉइन के बारे में जानेंगे. Bitcoin Kya hai? बिटकॉइन माइनिंग क्या होता है?  बिटकॉइन वॉलेट क्या है? बिटकॉइन से पैसे कैसे कमाए जा सकते है, बिटकॉइन कितना सेफ है ये सभी आपके मन के प्रश्न्न के उत्तर आपको इस आर्टिकल मै मिल जायेंगे.

तो चलो सबसे पहिले Bitcoin kya hai? जानते है.

बिटकॉइन क्या है? (Bitcoin kya hai in Hindi?)

Bitcoin Kya hai in Hindi?

जिस तरह हम अपने रोज के लेन-देन के लिए Rupee, Doller, pounds इस तरह की करेंसी लेन देन के लिए इस्तेमाल करते है. बिटकॉइन भी इसी तरह की एक करेंसी ही है लेकिन आभासी मुद्रा है. आभासी का मतलब अपने रुपया और डॉलर की तरह इसका कोही भौतिक रूप नहीं है.

बिटकॉइन पूरी तरह डिजिटल रूप में ही होती है इसलिए हम इसे Digital Currency या cryptocurrency कहते है. मतलब इसे हम छू नहीं सकते ये सिर्फ अपने ऑनलाइन वॉलेट में ही स्टोर कर सकते है और वॉलेट से ही ऑनलाइन लेन देन कर सकते है.

बिटकॉइन का अविष्कार Satoshi Nakamoto नामक एक जापानी व्यक्ति ने २००९ में किया था. बिटकॉइन की शुरवात करनेका उद्देश्य यही था की ऐसी एक currency हो जिसके लेन देन के बेच कोही भी मध्यस्ती न हो और जिसपर किसका कण्ट्रोल भी न हो. इसलिए बिटकॉइन को Decentralized Currency कहते है. बिटकॉइन का कोही मालिक नहीं है और बिटकॉइन पर किसी भी सरकार, संस्था, बैंक, अथॉरिटी किसीका भी control नहीं है.

शेयर मार्किट क्या है ? शेयर मार्किट की पूरी जानकरी….

१ बिटकॉइन की कीमत कितनी है ? (1 Bitcoin price)

Bitcoin kya hai ये तो आपने जान लिया, एक बिटकॉइन की कीमत इंडियन रुपए में जानेगे तो आप हैरान हो जायेंगे. आज (3 oct 2020 ) के दिन एक बिटकॉइन की कीमत करीब 10,557.00 उसद यानि भारतीय रुपया में 773,252.81 रुपए है. बिटकॉइन का अब तक की सबसे अधिक कीमत 19783.06 डॉलर जो की दिसंबर 2017 में हुआ था.

bitcoin price chart


जैसे की १ बिटकॉइन की कीमत बहुत ज्यादा है तो आप पूरा १ बिटकॉइन नहीं ले सकते तो आप बिटकॉइन का सबसे छोटा हिस्सा जो की १ Satoshi होता है वो खरीद सकते है. जैसे भारत में १०० पैसे से १ रुपया होता है वैसे ही १० करोड़ satoshi से १ बिटकॉइन (BTC) होता है.

बिटकॉइन कीमत सप्लाई और डिमांड के आधार पर घटती और बढ़ती रहती है. मतलब मार्किट में बिटकॉइन की कम मांग हो तो कीमत घटती है, और मांग बढ़ती है तो कीमत भी बढ़ती है.

बिटकॉइन माइनिंग क्या होती है ?(Bitcoin Mining in Hindi)

हिंदी भाषा में माइनिंग का मतलब होता है खुदाई, जैसे सोना चाँदी, हिरे धरती से निकलने के लिए खुदाई करनी होती है वैसे ही नए बिटकॉइन के लिए माइनिंग करनी होती है लेकिन ये पूरी तरह अलग तरीके की होती है और ये कंप्यूटर के जरिये की जाती है. इस को हमें थोड़ा विस्तार से समजना होगा.

जब आप बिटकॉइन का कोही ट्रांसक्शन करते हो मतलब किसीको बिटकॉइन भेजते हो तो आपकी डिजिटल सिग्नेचर generate होती है और बिटकॉइन नेटवर्क से जुड़े हुए कम्प्यूटर्स उस ट्रांसक्शन को वेरीफाई करते है की आप जीतने बिटकॉइन अपने अकाउंट से भेज रहे हो उतने आपके अकाउंट में बिटकॉइन है या नहीं.

ये प्रोसेस आपके निजी जीवन बैंक के चेक के तरह ही होती है, जैसे आप कोही ट्रांसक्शन के लिए चेक बैंक में देते हो तो बैंक आपका अकाउंट चेक करती है, की आप जितने अमाउंट का चेक है उतना पैसा आपके अकाउंट में है या नहीं. उतना अमाउंट आपके अकाउंट में होता है तो बैंक आगे वो पैसा भेजती है.

बिटकॉइन में Blockchain Technology का इस्तेमाल होता है. ब्लॉकचैन का मतलब Public Ledger (खाता) होता है, ये खाता वही का काम करता है. जैसे की कोही व्यापारी आने ट्रांसक्शन का हिसाब किताब खाता वही में रखता है उसी तरह बिटकॉइन के जितने भी ट्रैक्शन होते है उसका रिकॉर्ड Blockchain में होता है। ब्लैकचैन में आपको शुरवात से लेके अबतक के सभी ट्रांसक्शन रिकॉर्ड देखने को मिलते है.

Blockchain यानि public ledger को ठीक से मेन्टेन रखने का काम miners करते है इसके बदले में उनको ट्रांसक्शन फिस और इनाम में कुछ बिटकॉइन मिलते है. miners को इस तरह मिलनेवाले बिटकॉइन सिस्टम में पूरी तरह नए होते, इसी कारन इसे बिटकोईन माइनिंग कहते है.

नए बिटकॉइन केवल miners के जरिये ही मार्किट में आ सकते है, नए बिटकॉइन मार्किट में आने का केवल यही एक रास्ता है. लेकिन बिटकॉइन माइनिंग के लिए हाई परफॉरमेंस कंप्यूटर और हार्डवेयर की जरुरत होती है जिसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है. साथ ही बिटकॉइन माइनिंग के लिए बहुत ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी भी लगती है.

Bitcoin Blockchain Technology kya hai in Hindi?

जिस तरह इम्पोर्टेन्ट डाक्यूमेंट्स को हम files में रखते है उसी तरह बिटकॉइन ट्रांसक्शन को ब्लॉक रखा जाता है. जिस तरह फाइल पूरी तरह भरने पर नए डाक्यूमेंट्स दूसरे फाइल में रखते है उसी तरह बिटकॉइन में भी ट्रांसक्शन से ब्लॉक पूरी तरह भरने पर नए ब्लॉक में डालने होते है.

फिलहाल ब्लॉक की साइज 1 MB है इसिलए उसमे सीमित ही ट्रांसक्शन रखे जाते है. इसीतरह जब ब्लॉक भर जाता है तो बाकि नए ट्रांसक्शन को दूसरे नए ब्लॉक में रखा जाता है. हर कोही ब्लॉक में उसके पाहिले वाले ब्लॉक का रेफरन्स होता है और दूसरे वाले ब्लॉक रेफरन्स उसके अगले वाले ब्लॉक में होता है, इसीतरह ब्लॉक की एक चैन बन जाती है इसीलिए इसे ब्लॉकचैन कहा जाता है.

मिनर्स को बिटकॉइन के ट्रांसक्शन को ब्लॉक में डालकर ब्लॉक को सील करना होता है, ताकि बाकि कोही उस ट्रांसक्शन में कोही हेरफेर न कर सके. मिनर्स को ब्लॉक सील करने के लिए माइनिंग सॉफ्टवेयर के मदत से एक कठिन पहेली (Puzzle) का समाधान करना होता है, पहेली का बराबर समाधान करने के बाद वो ब्लॉक को कम्प्यूटर्स वेरीफाई करता है, और वो ब्लॉक ब्लॉकचैन में जोड़ दिया जाता है.

जो miner दूसरे प्रतियोगियों मिनर्स के तुलना में सबसे पहले पहेली का समाधान करता है तो उसे इनाम के तौर पर अभी (2020) में 6.25 बिटकॉइन मिलते है और ट्रांसक्शन फीस भी मिलती है. सभी miners एक दूसरे के competitors होते है. पहेली का समाधान न करने वाले बाकि अन्य दूसरे प्रतियोगियों को कुछ भी नहीं मिलता है. माइनिंग प्रोसेस को जानबुज कर जटिल बनाया गया है और ये बिटकॉइन डिज़ाइन का ही एक हिस्सा है.

बिटकॉइन माइनिंग इनाम (Bitcoin mining reward per block in Hindi)

जब बिटकॉइन की शुरवात हुयी थी तब प्रत्येक बिटकॉइन ब्लॉक पहेली का समाधान करने पर इनाम की कीमत 50 बिटकॉइन थी. प्रत्येक 210,000 ब्लॉक की खोज के बाद ब्लॉक इनाम को आधा कर दिया जाता है, जिसे पूरा होने में लगभग चार साल लगते हैं. मतलब हर चार साल में पहले चार साल के तुलना में घटकर आधा होता जाता है. नवंबर 2012 में यह 50 बिटकॉइन प्रति ब्लॉक से घटकर 25 बिटकॉइन हो गया और जुलाई 2016 में घटकर 12.5 बिटकॉइन रह गया.

बिटकॉइन नेटवर्क के इतिहास में अब तीसरा 2020 का पड़ाव है, इसका मतलब है कि माइनिंग इनाम अब 12.5 बिटकॉइन प्रति ब्लॉक से घटकर 6.25 बिटकॉइन हो गया है.

बिटकॉइन से पैसे कैसे कमाए ?

  1. बिटकॉइन माइनिंग करके
  2. बिटकॉइन ट्रेडिंग करके
  3. बिटकॉइन में लोंगटर्म इन्वेस्टमेंट करके

बिटकॉइन कैसे ख़रीदे? (How to Buy Bitcoin in India?)

2018 में भारत सरकार के केंद्रीय बैंक RBI ने Cryptocurrency के प्रति सावधानी लेते हुए Cryptocurrency की देश में खरीदी और बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी. लेकिन मार्च 2020 में भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला दे कर Cryptocurrency व्यापार पर आरबीआई प्रतिबंध को रद्द कर दिया है। इसके बाद बिटकॉइन के खरीद बिक्री का रास्ता खुल गया है.

भारत में बिटकॉइन ट्रेडिंग के लिए निचे दिए गए कुछ websites /Apps के मदत से Real Time बिटकॉइन की प्राइस देखकर आप आसानी से खरीद और बेच सकते है.

Wazirx (charge flat fee of 0.2% on all buy/sell trades )
भारत में बिटकॉइन ट्रेडिंग में सबसे पॉपुलर साइट में से एक ये एक है. इस वेबसाइट की parent कंपनी Binance holding ltd है. आप इस वेबसाइट के माध्यम से आपके पैसे रुपया (INR) में ही अकाउंट में डिपोसिट करके आसानी से बिटकॉइन खरीद सकते है. यदि बिटकॉइन बेचना चाहते हो तो आप तुरंत बेचकर आपके पैसे बैंक अकाउंट ट्रांसफर कर सकते है.

१) सबसे पहिले आपको Wazirx वेबसाइट पर अकाउंट बनाना होगा.
2) उसके बाद आपको मोबाइल पे OTP आएगा वो डालना है.
३) किस KYC करनी होगी.

wazirx KYC Screenshot


अकाउंट ओपन करने के बाद आप आपने बैंक अकाउंट add करके पैसे डिपोसिट कर सकते है और बिटकॉइन खरीद सकते है.

how to deposite fund in wazirx account


वेबसाइट पर आकउंट ओपन करने के बाद आप आपने मोबाइल पर भी wazirx का app इनस्टॉल करके आसानी से बिटकॉइन ट्रेडिंग कर सकते है.

wazirx के अलावा और भी बिटकॉइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म भारत में उपलब्द है जैसे की
Zebpay (charges a withdrawal fee of 0.00049 BTC)
Unocoin ( charges a fee of 0.7% to buy or sell Bitcoin)
Coindcx ( charges 0.0005 BTC for withdrawals)

बिटकॉइन ट्रेडिंग करने के फायदे और नुकसान (pros and cons of bitcoin trading in Hindi)

बिटकॉइन से ट्रेडिंग करने के क्या फायदे है ?

बिटकॉइन मार्किट में लेन का यही मक्सद था की ट्रांसक्शन के बिच का मेडिएटर (bank) हटाया जय और कम ट्रांसक्शन फीस में पैसे का ट्रांसक्शन आसान हो.

१) भुगतान करने की स्वतंत्रता
बिटकॉइन में भुगतान करने की स्वतंत्रता एक बड़ा लाभ है. मानिये आप भारत में है और आपका दोस्त USA में है. बिटकॉइन टेक्नोलॉजी के माध्यम से अपने दोस्त को पैसा भेजना संभव हो गया है. बिटकॉइन मुद्रा का एक रूप है जो डिजिटल रूप से मौजूद है. दुनिया भर में कहीं भी पैसा भेजना और प्राप्त करना संभव है.

2) कम फीस
ज्यादा ट्रांसक्शन फीस देना किसी को भी पसंद नहीं होता है. अन्य मनी transaction (डेबिट कार्ड /क्रेडिट कार्ड ) के तुलना में बिटकॉइन transaction की फीस कम होती है.

३)नियंत्रण और सुरक्षा
किसी भी प्रकार के वित्त को संभालने की बात आने पर आपके धन का नियंत्रण और सुरक्षा हमेशा एक प्राथमिकता होनी चाहिए. बिटकॉइन के बारे में खूबसूरत बात यह है कि यह उपयोगकर्ताओं को अपने खुद के transaction के नियंत्रण में रखने की अनुमति देता है जो आपके बिटकॉइन को सुरक्षित रहने और आपके डिजिटल वॉलेट में सुरक्षित रखने की अनुमति देता है.

४)जानकारी की पारदर्शिता
बिटकॉइन में जो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया है उसके कारन सभी transaction सभी को देखने के लिए उपलब्ध हैं, लेकिन आपकी व्यक्तिगत जानकारी छिपी हुई है.

बिटकॉइन ट्रेडिंग के नुकसान क्या है?

१) जोखिम और अस्थिरता (Risk and Volatility )
बिटकॉइन की मार्किट में सीमित आपूर्ति (जो की 21 मिलियन बिटकॉइन मार्किट आने वाले है और उसमे से कम से कम 80% पहले ही mined किये जा चुके है) और बढ़ती डिमांड इसके कारन प्राइस में हमेशा जोखिम और अस्थिरता रहती है. Volatility के कारन ही बिटकॉइन ट्रेडिंग में फायदा और नुकसान होता रहत है.

२)बिटकॉइन माइनिंग के पर्यावरणीय नुकसान
जैसे की हमने देखा है की बिटकॉइन माइनिंग के लिए बहुत ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी की जरूरत होती है इसके कारन भी. ज्यादा बिजली की खपत के कारन भी पर्यावरणीय नुकसान होता ही है.

३)गलत इस्तेमाल
बिटकॉइन के सिस्टम पर किसी भी गोवेर्मेंट अथॉरिटी के कण्ट्रोल में नहीं होने के कारन इसका गलत काम करने वाले लोग (क्रिमिन), डार्क वेब मार्केटप्लेस जैसी इस्तेमाल करने लगे है.

ये भी पढ़े –

आईपीओ क्या होता है? IPO से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी…

निष्कर्ष (Conclusion):

उम्मीद करता हु की आपको इस आर्टकिले के मदत से Bitcoin kya hai? इस प्रश्न का उत्तर अच्छी तरह मिल गया होगा. यह पोस्ट आपको कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताये और अपने दोस्तों को भी फेसबुक, व्हाट्सप्प पर जरूर शेयर जरूर करे. ताकि उन्हें भी पता चले की Bitcoin kya hai?

FAQ

बिटकॉइन कैसे बनता है?

जैसे भारतीय में १ रूपए = १०० पैसे होते है, यानि की रूपये में पैसा ये सबसे छोटा यूनिट होता है, वैसे ही 1 बिटकॉइन मतलब १० करोड़ सतोशी होते है, बिटकॉइन में सतोशी यह सबसे छोटा यूनिट होता है.

बिटकॉइन किस देश की मुद्रा है?

बिटकॉइन ये पूरी तरह decentralised करेंसी है ये किसी भी देश या संगधन ने नहीं बनायीं है और नहीं इसपर किसीका कण्ट्रोल है. आधिकारिक तौर पर इसको किसी भी देश के सरकार ने अपनी करेंसी कहकर नहीं स्वीकार है.

Share

Leave a Comment