What is Sovereign Gold Bond (Hindi) सॉवरेन गोल्ड बांड क्या है?

सॉवरेन गोल्ड बांड क्या है? कितना सुरक्षित है? Sovereign Gold Bond के फायदे और नुकसान, जानिए सॉवरेन गोल्ड बांड की पूरी जानकारी (Sovereign Gold Bond kya ha, Sovereign gold bond Scheme, Sovereign gold bond benefits)

भारतीयों का गोल्ड के प्रति लगाव सब जानते है. इसलिए दुनिया में सबसे जादा गोल्ड को इम्पोर्ट करनेवाली ५ देशो में भारत का भी नाम आता है. लेकिन इसके वजसे भारत सरकार के सामने एक मुसीबत भी खड़ी होती है, जब अपने देश में सोना इम्पोर्ट होता है तो विदेशी मुद्रा भंडार से बहुत जादा डॉलर भी निकल कर देश के बहार जाता है.

इससे अपने देश का ट्रेड डेफिसिट बिल भी बड रहा है. इस परेशानी का हल निकलने के लिए भारत सरकार ने Sovereign Gold Bond को लाया है.

“आज की बचत, कल की कमाई”

सॉवरेन गोल्ड बांड क्या होता है?

भारतीय बाजार में सोने की मांग को कम करने तथा घरेलू बचत के लिए सोना खरीद कर इन्वेस्टमेंट करने वाले लोगो का रास्ता आसान हो इसलिए भारत सरकार ने ये महत्वपूर्ण सॉवरेन गोल्ड बांड २०१५ में चालू की है.

सॉवरेन गोल्ड बांड मतलब आप समज गए होंगे की ये भौतिक रूप से सोना नहीं होता है. Sovereign Gold Bond ये सरकारी प्रतिभूतिया है, जिसे ग्राम में denominate किया गया है. और इस बांड को सरकार की और से रिज़र्व बैंक RBI जारी करती है.

सॉवरेन गोल्ड बांड में निवेश करने के लिए आपको इश्यू प्राइस पर ही भुगतान करना होता है. बदले में मिले बांड्स को Maturity तक रख कर बादमे इसे आसानी से Redeemed कर सकते है.

सॉवरेन गोल्ड बांड स्कीम कैसे काम करती है?

इस योजना में सरकार के और से रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) सॉवरेन गोल्ड बांड जारी करती है. हर साल ५ से ६ बार RBI ये पब्लिक इशू करती रहती है, तभी आप इसमें इन्वेस्ट कर सकते है. ये बांड्स बैंक और पोस्ट ऑफिस, स्टॉक ब्रोकर में ग्राम के मूल्य पर बेचा जाता है. इसके बाद ये सोने के दाम के साथ लिंक किये जाते और निवेशक बांड्स को खरीदने के लिए कॅश में पे करते है.

इस योजना के तहत एक निवेशक कम से कम 1 ग्राम का और जादा से जादा 4 kg तक का सोने में निवेश कर सकते है.

इस बांड में निवेश करने पर 2.७५ % तक का वार्षिक ब्याज निवेशको को मिल सकता है. ये ब्याज आपको साल शुवत वैल्यू ऑफ़ इन्वेस्ट के आधार पर अर्द्ध वार्षिक देय होता है.

भौतिक रूप से सोना खरीदने के वजाए सॉवरेन गोल्ड बांड में ही क्यू निवेश करे?

ये आर्टिकल पड़ते समय आपके दीमाग में ये सवाल जरूर आया होगा. भौतिक रूप वाले सोने के मुकाबले सॉवरेन गोल्ड बांड में निवेश करना ही क्यू समजदारी वाला काम है? तो चलो देखते है क्यू भौतिक रूप के मुकाबले Sovereign Gold Bond ही क्यू बेहतर है.

हम सोना क्यू खरीदते है एक तो ज्वेलरी बनाकर पहनने के लिए या इन्वेस्टमेंट के लिए, ताकि भविष्य में अच्छा return मिले. यदि ज्वेलरी बनाकर पेहेनना ही है तो भौतिक रूप वाला ही सोना ही खरीदना होगा. लेकिन सोने में इन्वेस्ट करना है तो सॉवरेन गोल्ड बांड ही सही है, ऐसा क्यू देखते है.

जब हम भौतिक रूप से सोना (Physical Gold) खरीदते है तो उसके साथ ही मेकिंग चार्जेज भी लगते है, स्टोरेज का भी रिस्क रहता है, बैंक लोक्कर में रखते है तो लोक्कर की कोस्ट भी आपको देनी होती है, इम्पुरिटी का भी रिस्क होता है और GST भी देना होता है.

और दूसरी तरफ सॉवरेन गोल्ड बांड खरीदते है तो बांड की maturity तक निचिंत रह सकते और अपना बांड्स मार्किट प्राइस पर ही Reedem करके अपना पैसा निकल सकते है. साथ ही आपको वार्षिक ब्याज भी मिलता है.

क्या Sovereign Gold Bond में निवेश करना जोखिम का काम है?

यदि आप किसमे में भी निवेश करना सोचते है तो उसके साथ जोखिम का आना स्वाभाविक है. लेकिन हम देखते है की हम कितना जोकिम ले सकते है. और जोखिम ले तो कम से कम ले.

SGB में निवेश करते है तो उसमे भी जोखिम है. जैसे हम देखते है की फिजिकल गोल्ड का रेट कम जादा होता रहता है. जब गोल्ड का मूल्य आपने लिया है उसके ऊपर जाता है तो आपको तो फायदा ही होगा लेकिन यदि रेट कम होता है तो नुकसान भी तो होगा.

लेकिन हम देखते आये है की सोना एक ऐसा कमोडिटी है जिसपर दुसरे कमोडिटी के तुलना में सबसे जादा भरोसा किया जाता है, ऐसा क्यू तो सोने का रेट काफी हद तक स्थिर रेहेता है या रेट में उतार चदाव भी हुआ तो काफी मामूली होता है.

लेकिन यदि आप सोने का रेट का एक हिस्टोरिकल चार्ट भी देखते है तो आप को समज में आयेगा की यदि आप बहुत जादा समय के लिए गोल्ड को होल्ड करते है तो अच्छा है. और रही बात SGB जरिये तो आप आप सॉवरेन गोल्ड बांड खरीदकर maturity पर तो मार्किट रेट पर ही भेज सकते है. और एक बात SGB निवेश करके आप जीतनी क्वांटिटी खरीदते है तो उतनी ही रहेगी अखिर्तक उसमे कमी नहीं आयेगी.

और भी आर्टिकल पढ़े

म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ? Mutual fund in Hindi

शेयर मार्किट क्या है ? Basics of Share market in hindi

सॉवरेन गोल्ड बांड के कुछ फायदे (Sovereign gold bond benefits)

  1. No Design & making charges

2. No Storage Risk & Costs

3. No Impurities

4. No Default & Safety Risk
Sovereign Gold Bond ये पूरी तरह सरकारी योजना है और इसे RBI चलती ही तो इसकी सुरक्षा की चिंता का विषय ही नहीं आता.

5. No GST or STT(Security Transaction Tax)
जिस तरह हम फिजिकल गोल्ड को खरीदते है तभी हमको GST लगता है और यदि स्टॉक्स खरीदते है तो STT लगता है लेकिन SGB के मामले में ये नहीं लगता.

6. No Capital Gains Tax After 5 Year
इस बांड का maturity period 8 साल का है परन्तु आप ५ साल होने के बाद आप इसे कभी भी भेज सकते है, यदि आप ५ साल बाद अपने बांड्स बेचते है तो आपके कोही भी Capital Gains Tax नहीं लगेगा.

7. Collateral for Loans
जैसे आप फिजिकल गोल्ड को गिरवी रखकर लोन लेते हो उसी तरह आप सॉवरेन गोल्ड बांड भी गिरवी रखकर लोन ले सकते है.

8. Good Long term Returns
हमने पाहिले ही देखा है की यदि आप लॉन्ग टर्म के लिए सॉवरेन गोल्ड बांड में इन्वेस्ट रखते है तो आप अच्छा रिटर्न्स कमा सकते है. रिटर्न्स में देखे तो आपको Capital Appreciation तो होता ही है साथ में आपको सालाना 2.5% Interest भी मिलता है.

9. Demat Form
जैसे हम देखते है की यदि आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते है तो वो Demat Form में मिलता है. वैसे ही आप सॉवरेन गोल्ड बांड भी ऑनलाइन ही Demat Form में खरीद सकते है. जिसतरह कोही फिजिकल सर्टिफिकेट संभालने की परशानी रहती है लेकिन Demat Form में होने से ये सुरक्षित है.

10. Tradable on Exchange
ये बांड्स Demat Form में उपलब्द होने के कारन आप इसे आसानी से Exchange पर भी ट्रेड कर सकते है और आप चाहे तो इसे ५ साल से पाहिले भी एक्सचेंज पर बेच सकते है.

Sovereign Gold Bond scheme Limitations

1. 5 Year Lock-in
हर कोही इन्वेस्टमेंट की कुछ न कुछ Limitations होती है उसीतरह इस में भी ये Limitations है की आपका पैसा ५ साल के लिए Lock-in होता है. लेकिन ये इतनी भी बड़ी प्रॉब्लम नहीं है आप इसे ५ साल के पाहिले भी एक्सचेंज पर भी बेच सकते है और अपना पैसा वापस ले सकते है.

2. Capital gain tax Applicable if sold before 5 Years
यदि आप ५ साल के पहिले ही ये बांड्स बेचकर पैसे निकते है तो आपको capital gain tax लगता है.

3. No SIP option
जैसे बहुत सरे लोगो को मंथली SIP करके से इन्वेस्टमेंट करनेकी आदत होती है, लेकिन इस स्कीम में ये सुविधा नहीं मिलती.

ये भी पढ़े:
Saving vs Current Account सेविंग और करंट अकाउंट में क्या अंतर होता है?
पैनी स्टॉक्स क्या होते है?
Cryptocurrency क्या है? इनके प्रकार, पूरी जानकारी

आशा करता इस आर्टिकल के जरिये आपको सॉवरेन गोल्ड बांड क्या होता है ये जरूर पता चला होगा. आपको ये पोस्ट Sovereign Gold Bond in Hindi कैसा लगा कमेंट करके जरूर बताये और अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे.

Share

Leave a Comment